Best Shayari

Shayari Hub

Ye darvesho’n ki basti hai yaha’n aisa nahi’n hoga


ये दरवेशों कि बस्ती है यहाँ ऐसा नहीं होगा,
लिबास-ए-ज़िन्दगी फट जाएगा मैला नहीं होगा !

शेयर बाज़ार की क़ीमत उछलती गिरती रहती है,
मगर ये खून-ए-मुफ़लिस है कभी महंगा नहीं होगा !

Ye darvesho’n ki basti hai yaha’n aisa nahi’n hoga,
Libaas-e-Zindgi phat jayega maila nahi’n hoga !

Share bazaar ki Qeemat uchalti girti rahti hai,
Magar ye Khoon-e-Muflis hai kabhi mehnga nahi’n hoga !

Shayari by @Munawwar Rana