Best Shayari

Shayari Hub

Author: admin


Raees dialogue, Best Raees Film dialogue, Raees Filmy dialogue


Raees dialogue, Raees Filmy dialogue, Best Raees Film dialogue

1) “Ammi jaan kehti thi, koi dhanda chhota nahi hota aur dhande se bada koi dharm nahi hota,Ab yehi mera kalma hain aur yehi mera majhab”

“Gujarat ki hawa mein vyaapar hai, saahib!
Meri saans to rok loge, lekin iss hawa ko kaise rokoge”

2) “Gussa shaitaan Ka Hunar hai, issliye haraam hai”

”Baniye ka dimaag aur Miyan bhai ki daring.”

“Aa raha hoon….”

3) “Din aur logon ke hote hain..Majmudar saheb..Sheron ka jamana hota hai”

“Battery nahi bolneka.”

“Jisko tu dhandha bolta hai na, crime hai woh… Dhandha band kar le, Warna saans lena bhi mushkil kar dunga”

4) “Agar katne ka darr hota na
Toh patang nahi chadhata
Phirki pakadta…”

“Jo dhandhe ke liye sahi, Woh sahi
Jo dhandhe ke liye ghalat, Woh ghalat”

5) “Saboot le aaiye… le jaaiye, Raees haazir”

6) “Ek din naak mein nakel daal ke, Kheech ke leke jaaunga, Tujhe main yahaan se…”

“Raees ka aur mera rishta bada ajeeb hai … paas reh nahi sakta aur saala door jaane nahi deta.”

“Jisko tu dhanda bolta hai na…vo crime hai vo…Dhanda band kar de..varna sans lena bhi mushkil kar dunga”

“Aaj kal din achche chal rhe hain tere.”

“Thane ki chay hai…peene ki aadat dal le”

“Aap mera tranfer kahin bhi kar sakte hain..raees ko nahi chhodunga main”

7) “Jyada uncha mat udd, kat jayega.”


इकबाल के शेर


खुदी को कर बुलन्द इतना कि हर तकदीर से पहले,
खुदा बंदे से खुद पूछे बता तेरी रजा क्या है।

(रजा – इच्छा, तमन्ना, ख्वाहिश)

जफा जो इश्क में होती है वह जफा ही नहीं,
सितम न हो तो मुहब्बत में कुछ मजा ही नहीं।

(जफा – जुल्म)

ढूंढता रहता हूं ऐ ‘इकबाल’ अपने आप को,
आप ही गोया मुसाफिर, आप ही मंजिल हूं मैं।

दिल की बस्ती अजीब बस्ती है,
लूटने वाले को तरसती है।

मिटा दे अपनी हस्ती को गर कुछ मर्तबा चाहिए
कि दाना खाक में मिलकर, गुले-गुलजार होता है।

(मर्तबा – इज्जत, पद)

मुझे रोकेगा तू ऐ नाखुदा क्या गर्क होने से,
कि जिसे डूबना हो, डूब जाते हैं सफीनों में।

(1. नाखुदा – मल्लाह, नाविक 2. गर्क – डूबना 3. सफीना – नौका)

हजारों साल नर्गिस अपनी बेनूरी पे रोती है,
बड़ी मुश्किल से होता है चमन में दीदावर पैदा।
(दीदावर – पारखी)

खुदा के बन्दे तो हैं हजारों बनो में फिरते हैं मारे-मारे
मैं उसका बन्दा बनूंगा जिसको खुदा के बन्दों से प्यार होगा

सितारों से आगे जहां और भी हैं
अभी इश्क के इम्तिहां और भी हैं

सख्तियां करता हूं दिल पर गैर से गाफिल हूं मैं
हाय क्या अच्छी कही जालिम हूं, जाहिल हूं मैं

(गाफिल – अनजान)

साकी की मुहब्बत में दिल साफ हुआ इतना
जब सर को झुकाता हूं शीशा नजर आता है

मुमकिन है कि तू जिसको समझता है बहारां
औरों की निगाहों में वो मौसम हो खिजां क

Hum kabhi jab dard ke qissey sunaane Lag gaey


हम कभी जब दर्द के किस्से सुनाने लग गए
लफ़्ज़ फूलों की तरह ख़ुश्बू लुटाने लग गए

बेबसी तेरी इनायत है कि हम भी आजकल
अपने आँसू अपने दामन पर बहाने लग गए

Hum kabhi jab dard ke qissey sunaane Lag gaey
Lafz phoolo’n ki tarah Khushbu Lutaane Lag gaey

Bebasi Teri inaayat hai ki Hum bhi aaj kal
Apne aansu Apne daaman par bahaane Lag gaey

Shayari by @Munawwar Rana

Wo Ghazal padhne me’n lagta bhi Ghazal Jaisa tha


वो ग़ज़ल पढने में लगता भी ग़ज़ल जैसा था,
सिर्फ़ ग़ज़लें नहीं, लहजा भी ग़ज़ल जैसा था !

वक़्त ने चेहरे को बख़्शी हैं ख़राशें वरना,
कुछ दिनों पहले ये चेहरा भी ग़ज़ल जैसा था !

तुमसे बिछडा तो पसन्द आ गयी बेतरतीबी,
इससे पहले मेरा कमरा भी ग़ज़ल जैसा था !

कोई मौसम भी बिछड कर हमें अच्छा ना लगा,
वैसे पानी का बरसना भी ग़ज़ल जैसा था !

नीम का पेड था, बरसात भी और झूला था,
गांव में गुज़रा ज़माना भी ग़ज़ल जैसा था !

वो भी क्या दिन थे तेरे पांव की आहट सुन कर,
दिल का सीने में धडकना भी ग़ज़ल जैसा था !

इक ग़ज़ल देखती रहती थी दरीचे से मुझे,
सोचता हूं, वो ज़माना भी ग़ज़ल जैसा था !

कुछ तबीयत भी ग़ज़ल कहने पे आमादा थी,
कुछ तेरा फ़ूट के रोना भी ग़ज़ल जैसा था !

मेरा बचपन था, मेरा घर था, खिलौने थे मेरे,
सर पे मां-बाप का साया भी ग़ज़ल जैसा था !

नर्म-ओ-नाज़ुक-सा , बहुत शोख़-सा, शर्मीला-सा,
कुछ दिनों पहले तो “राना” भी ग़ज़ल जैसा था !

Wo Ghazal padhne me’n lagta bhi Ghazal Jaisa tha,
Sirf Ghazle’n nahi’n Lehja bhi Ghazal Jaisa tha !

Waqt ne Chehre ko Bakhshi hai Kharaashe’n warna,
Kuch dino’n pehle Ye Chehra bhi Ghazal Jaisa tha !

Tum se bichchda tou pasand aa gayi BeTarteebi,
issey pehle Mera Kamra bhi Ghazal Jaisa tha !

Koi Mausam bhi Bichchad kar hume’n Achcha na Laga,
Waisey Paani ka Barasna bhi Ghazal Jaisa tha !

Neem ka paid tha, Barsaat thi aur Jhoola tha,
Gaanv me guzra Zamaana bhi Ghazal Jaisa tha !

Wo bhi kya din they Tere Paanv ki aahat sun kar,
Dil ka Seeney me’n dhadakna bhi Ghazal Jaisa tha !

Ek Ghazal dekhti rehti thi dareechey se Mujhe,
Sochta hu’n wo Zamana bhi Ghazal Jaisa tha !

Kuch tabiyat bhi Ghazal kehne pe aamada thi,
Kuch Tera phoot ke Rona bhi Ghazal Jaisa tha !

Mera Bachpan tha, Mera Ghar tha, Khiloney the Mere,
Sar pr Maa-Baap ka saaya bhi Ghazal Jaisa tha !

Narm-o-Naazuk sa, Bahut Shokh sa, Sharmeela sa,
Kuch dino’n Pehle tou “Rana” bhi Ghazal Jaisa tha !

Ghazal by @Munawwar Rana

Kabhi Shehro’n se guzrenge kabhi sehra bhi dekhenge


कभी शहरों से गुज़रेंगे कभी सेहरा भी देखेंगे,
हम इस दुनिया में आएं हैं तो ये मेला भी देखेंगे ।

तेरे अश्कों की तेरे शहर में क़ीमत नहीं लेकिन,
तड़प जाएंगे घर वाले जो एक क़तरा भी देखेंगे ।

मेरे वापस ना आने पर बहुत से लोग ख़ुश होंगे,
मगर कुछ लोग मेरा उम्र भर रस्ता भी देखेंगे ।

Kabhi Shehro’n se guzrenge kabhi sehra bhi dekhenge,
Hum iss duniya me’n aaye hain tou ye mela bhi dekhenge.

Tere ashko’n ki Tere shehr me’n qeemat nahi’n lekin,
Tadap jaayenge ghar waale jo ek qatra bhi dekhenge.

Mere waapas na aane par bahut se Log khush honge,
Magar kuch Log Mera umr bhar rasta bhi dekhenge.

Shayari by Munawwar Rana

Na Jannat Maine Dekhi hai Na Jannat ki Tawaqqo Hai


ना जन्नत मैंने देखी है ना जन्नत की तवक्क़ो है
मगर मैं ख़्वाब में इस मुल्क का नक़शा बनाता हूँ

मुझे अपनी वफ़ादारी पे कोई शक नहीं होता
मैं खून-ए-दिल मिला देता हूँ जब झंडा बनाता हूँ

نہ جنّت میں نے دیکھی ہے نہ جنّت کی توقع ہے
مگر میں خواب میں اس ملک کا نقشہ بناتا ہوں

مجھے اپنی وفاداری پہ کوئی شک نہیں ہوتا
میں خون دل ملا دیتا ہوں جب جھنڈا بناتا ہوں

Na Jannat Maine Dekhi hai Na Jannat ki Tawaqqo Hai
Magar Main Khwaab me’n is Mulk ka Naqsha Banata hu’n

Mujhe Apni Wafadaari pe Koi Shak Nahi’n hota
Main Khoon-e-Dil Mila deta hu’n Jab Jhanda Banata hu’n

Shayari by @Munawwar Rana

Ye darvesho’n ki basti hai yaha’n aisa nahi’n hoga


ये दरवेशों कि बस्ती है यहाँ ऐसा नहीं होगा,
लिबास-ए-ज़िन्दगी फट जाएगा मैला नहीं होगा !

शेयर बाज़ार की क़ीमत उछलती गिरती रहती है,
मगर ये खून-ए-मुफ़लिस है कभी महंगा नहीं होगा !

Ye darvesho’n ki basti hai yaha’n aisa nahi’n hoga,
Libaas-e-Zindgi phat jayega maila nahi’n hoga !

Share bazaar ki Qeemat uchalti girti rahti hai,
Magar ye Khoon-e-Muflis hai kabhi mehnga nahi’n hoga !

Shayari by @Munawwar Rana


Raat bhar jaagte rehne ka sila hai shayad


रात भर जागते रहने का सिला है शायद,
तेरी तस्वीर सी महताब में आ जाती है |

Raat bhar jaagte rehne ka sila hai shayad,
Teri Tasveer si mahtab me’n aa jaati hai.

Shayari by @Munawwar Rana


Main issey pehle ke bikhru’n idhar-udhar ho jaau’n


मैं इससे पहले कि बिखरूं इधर-उधर हो जाऊं
मुझे संभाल ले मुमकिन है दर-बदर हो जाऊं

میں اس سے پہلے کہ بکھروں ادھر ادھر ہو جاؤں
مجھے سنبھال لے ممکن ہے در بدر ہو جاؤں

Main issey pehle ke bikhru’n idhar-udhar ho jaau’n
Mujhe sambhaal le Mumkin hai dar-badar ho jaau’n

Shayari by @Munawwar Rana